Raag Khamaj | Bandish and notations | Hindustani Classical Music | Saptak – Music for Soul

राग परिचय : राग खंबाज की उत्पत्ति थाट खंबाज से हुई है। इसे तीनताल में गया बजाय जाता है। इसकी जाती षाडव संपूर्ण है। गायन समय रात्रि का द्वितीय प्रहर है। वादी स्वर – गांधार (गा) एवं सम्वादी स्वर निषाद…

Raag Khamaj | Bandish and notations | Hindustani Classical Music | Saptak - Music for Soul

Source

0
(0)

राग परिचय : राग खंबाज की उत्पत्ति थाट खंबाज से हुई है। इसे तीनताल में गया बजाय जाता है। इसकी जाती षाडव संपूर्ण है। गायन समय रात्रि का द्वितीय प्रहर है। वादी स्वर – गांधार (गा) एवं सम्वादी स्वर निषाद (नी) है । इस राग के आरोह में शुद्ध निषाद तथा अवरोह में कोमल निषाद का प्रयोग करते है।

Thank you for listening 🙂

Email us at: saptakmusicforsoul@gmail.com
Follow us on Instagram – https://www.instagram.com/saptak_sy/
Follow us on Facebook – https://www.facebook.com/SaptakMusicallvibes

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?